Phone का Network कैसे काम करता हैं?
दोस्तों 1980 के दशक में Mobile Phone के आने के बाद संचार की दुनिया ही बदल गयी, लेकिन ये परिवर्तन Mobile Phone की वजह से नहीं बल्कि उस Network के आविष्कार के कारण हुआ था जिसके कारण Mobile Phone काम करता है। Mobile Network एक ऐसी चीज है जिसका हम हर दिन इस्तेमाल करते हैं। व्यावहारिक रूप से हर बार जब हम अपने Mobile Phone पर नज़र डालते हैं या किसी भी तरह से इसका उपयोग करते हैं, तो हम सब Mobile Network पर भरोसा करते हैं ताकि हम बाकी दुनिया के संपर्क मे बने रहें, आज के Smartphone मे निसंदेह बहुत सारे Features है, पर यदि उसमे से हम अपना Sim निकाल ले तो वो बस एक Entertainment का खिलौना बनके रह जायेगा, इसलिये किसी भी Phone के लिये उसमे Network होना बहुत जरूरी है Mobile Phone के द्वारा आज हम कही से, किसी से भी जब चाहे बात कर सकते है, लेकिन क्या आप जानते है? Mobile Network कैसे काम करता है? कैसे पलक जपकते ही हम मीलों दूर बैठें किसी भी व्यक्ति से बात कर सकते है, आज मै आपको बताऊंगा की Mobile Network कैसे काम करता है|

किसी भी Mobile Network को Communication के लिये एक Base Station की जरुरत होती है जिसे हम Radio Tower कहते है सरल भाषा मे कहे तो Mobile Phone एक दोतरफा Radio होता है जिसमें एक Radio Transmitter(रेडियो तरंगों को भेजने वाला) और एक Radio Receiver(रेडियो तरंगों को प्राप्त करने वाला) होता है। जब हम अपने Mobile Phone पर अपने दोस्त के साथ बात करते हैं, तो हमारे Phone का Radio Transmitter हमारी आवाज को एक Electrical Signal में बदल देता है, जिसे बाद में रेडियो तरंगों के माध्यम से नजदीकी Radio Tower तक पहुंचाया जाता है। Radio Tower का Network तब रेडियो तरंगों को हमारे दोस्त के Mobile Phone पर भेज देता है फिर Radio Receiver इसे वापस एक Electrical Signal में बदल देता है और फिर वापस ध्वनि करता है।  इस तरह से हम दूर बैठे लोगो से बात कर सकते है| हमारे Mobile Phone मे Microphone Radio Transmitter का काम करता है जबकि Speaker Radio Receiver का काम करता है
हमारे Mobile Phone मे Radio तरंगो को भेजने और वापस प्राप्त करने के लिये एक Radio Antenna जरुर होता है जो हर समय थोड़ी ऊर्जा का उपयोग करके सक्रिय रहता है और यदि हमारा Phone Switch On है पर उपयोग मे नहीं है तो भी वो थोड़ी थोड़ी देर मे Signal भेजता रहता है इसी कारण हमारा Phone जब Flight Mode पर होता है तो Battery की खपत कम करता है क्यों की Flight Mode मे यह Signal भेजना बंद कर देता है Mobile Network के द्वारा ही हम हजारों किलोमीटर दूर स्थित दूसरे Mobile Phone पर बात कर सकते है Mobile Network बनाने के लिए पूरी पृथ्वी को छोटे छोटे हिस्सों बांट लिया जाता है जिन्हें Cell कहते है। ये Cell षट्कोणीय आकार के क्षेत्र होते हैं और हर Cell का अपना एक Base Station होता है। जिसे हम Radio Tower या Mobile Tower कहते है, जब हम अपने किसी दोस्त को उसके Phone पर Call करते हैं तो सबसे पहले हमारे क्षेत्र का Base Station हमारे Phone से निकले Signal को पकडता है और फिर हमारे दोस्त के नजदीकी Base Station को भेज देता है। फिर यह Base Station उस Signal को हमारे दोस्त के Phone तक पहुंचा देता है और हमारी आवाज उसके Phone पर सुनायी देती है। यदि हम बात करते करते एक Base Station से दूसरे Base Station के क्षेत्र में चले जाते हैं तो भी हमारा Phone बिना हमारी Call को प्रभावित किये Automatic दूसरे Base Station को Switch कर लेता है और हमारी बात जारी रहती है। Cell के उपयोग से एक और कठिन समस्या का समाधान हो जाता है। Mobile Network में Radio Frequency की उपलब्धता सीमित होती है और एक समय में लगभग 800 Radio Frequency उपलब्ध होती है। और हमारे Phone को एक समय में Call करने के लिए 2 Frequency या आवृत्तियों की आवश्यकता होती है। एक हमारी आवाज को भेजने के लिए और दूसरी हमारी आवाज को प्राप्त करने के लिए। इस प्रकार एक समय में 400 लोग एक साथ बातचीत कर सकते हैं लेकिन Cell के उपयोग से हर Cell पर इन आवृत्तियों का पुनः प्रयोग हो जाता है और हर Cell पर इतनी ही संख्या मे लोग एक साथ बात कर सकते है|

No comments:

Post a Comment

| Designed by ACS