कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार), राज्य मंत्री, CCS, ACC


किसी भी सरकार के मंत्री परिषद में तीन रैंक के मंत्री होते है

1. कैबिनेट मंत्री
2. राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)
3. राज्य मंत्री (जूनियर मिनिस्टर)

1. कैबिनेट मंत्री

कैबिनेट मंत्रियों के पास एक या उससे अधिक आवंटित सारे मंत्रालयों की पूरी जिम्मेदारी होती है, सरकार के सभी फैसलों मे कैबिनेट मंत्री शामिल होते है, सामान्यत सप्ताह मे एक बार कैबिनेट की मीटिंग जरुर होती है कोई भी फैसला जैसे अध्यादेश, नया कानून, या कानून मे संशोधन इत्यादि कैबिनेट की बैठक मे ही पास होता है अंग्रेजी मे कैबिनेट मंत्री को सीनियर मिनिस्टर भी कहते है|

2. राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)

स्वतंत्र प्रभार वाले राज्यमंत्रियों के पास आवंटित मंत्रालय और विभाग की पूरी जवाबदेही होती है लेकिन वो सामान्य तौर पर कैबिनेट की बैठक मे शामिल नहीं हो सकते है परन्तु कैबिनेट इनको उनके मंत्रालय या विभाग से संबंधित विषयों पर चर्चा और फैसलों के लिये बुला भी सकता है, ये वो मंत्री होते है जो, कैबिनेट मंत्री को रिपोर्ट नहीं करते हैं|

3. राज्य मंत्री (जूनियर मिनिस्टर)

राज्य मंत्री को अंग्रेजी बोलचाल में जूनियर मिनिस्टर भी कहते हैं, ये कैबिनेट मंत्री यानी सीनियर मिनिस्टर के नीचे काम करने वाले मंत्री होते हैं, जिन्हें हिन्दी में राज्यमंत्री और अंग्रेजी में जूनियर मिनिस्टर कहते हैंएक कैबिनेट मंत्री के नीचे एक या उससे ज्यादा राज्य मंत्री भी हो सकते है, जैसे नरेन्द्र मोदी की 2014 की सरकार मे राजनाथ सिंह कैबिनेट मंत्री थे उनके पास गृह मंत्रालय था और उनके नीचे किरेन रिजिजु और हंसराज अहीर राज्यमंत्री थे, किसी भी मंत्रालय के अंदर भी बहुत सारे विभाग होते है, जो राज्यमंत्रियो के बीच मे बाँट दिये जाते है ताकि उस मंत्रालय के कैबिनेट मंत्री को मंत्रालय को चलाने मे आसानी हो, ये वो मंत्री होते है जो, कैबिनेट मंत्री को रिपोर्ट करते हैं|
भारत में केंद्र सरकार के मंत्री परिषद यानी कुल मंत्रियों की संख्या लोकसभा के सांसदों की कुल संख्या के 15 प्रतिशत से ज्यादा नही हो सकती है|

भारत मे केंद्र सरकार के मंत्री परिषद में शामिल कैबिनेट मंत्रियो को मिलाकर कुछ कैबिनेट कमिटी भी बनायीं जाती हैजिन्हे आसान भाषा मे सुपर कैबिनेट भी कहते है वर्तमान मे 6 कैबिनेट कमिटीया है

1. Cabinet Committee on Security (CCS)
2. Appointments Committee of the Cabinet (ACC)
3. Cabinet Committee on Accommodation (CCA)
4. Cabinet Committee on Economic Affairs (CCEA)
5. Cabinet Committee on Parliamentary Affairs (CCPA)
6. Cabinet Committee on Political Affairs (CCPA)

इन सब सुपर कैबिनेट मे सबसे ज्यादा ताकतवर कमिटी Cabinet Committee on Security (CCS) है यह सुरक्षा से संबंधित मामलो की कमिटी है, इसमे प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री, वित मंत्री और विदेश मंत्री शामिल होते है, इस कमिटी मे जो भी कैबिनेट मंत्री शामिल होते है उन्हें सरकार का सबसे ताकतवर मंत्री मन जाता है क्योकि CCS मे सारे जरूरी, रणनीतिक और कुटनीतिक फैसले होते है इसके अलावा यह कमिटी दुसरे देशों से संधि, समझोते, हथियारों की खरीद-बिक्री, और देश की आंतरिक सुरक्षा से संबंधित फेसले भी लेती है इसके बाद दुसरी सबसे ताकतवर कमिटी Appointments Committee of the Cabinet (ACC) है, इस कमिटी का काम नियुक्ति करना होता है (ACC) केंद्र सरकार के सभी मुख्य प्रशासनिक पदों पर नियुक्ति करती है जिसमे कैबिनेट सचिव, सचिव इत्यादि होते है|

No comments:

Post a Comment

| Designed by ACS