मिशन शक्ति और एंटी सैटेलाइट क्या है?

1. मिशन शक्ति 

भारत के वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष मे 300 किलोमीटर दूर लो अर्थ ऑर्बिट के एक सैटेलाइट को मार गिराया है भारत ने जिस सैटेलाइट को निशाना बनाकर मार गिराया है, वह एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था इस लक्ष्य को A-SAT (Anti Satellite) मिसाइल के जरिए मार गिराया है. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस Mission को सिर्फ 3 मिनट में पूरा किया गया है
अंतरिक्ष में इस उपलब्धि को हासिल करने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बना है. इससे पहले अमेरिका, चीन, रूस के पास यह शक्ति मौजूद थी

2. लो अर्थ ऑर्बिट(LEO) क्या है?

लो अर्थ ऑर्बिट अंतरिक्ष की वह कक्षा होती है जिसमें लो अर्थ ऑर्बिट Satellite प्रक्षेपित किए जाते हैं यह अंतरिक्ष में पृथ्वी की सतह से लगभग 2000 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित एक कक्षा होती हैं इस कक्षा और पृथ्वी का केंद्र एक ही है लेकिन पृथ्वी का आकार पूरी तरह से गोल ना होने के कारण इस ऊंचाई में बदलाव आ जाते हैं यानी इस कक्षा की पृथ्वी से ऊंचाई कितनी होगी यह इस पर भी निर्भर कर सकता है कि हम पृथ्वी पर कहां से इसकी ऊंचाई की गणना करना चाहते हैं इस कक्षा में यदि कोई Satellite भेजा जाता है तो वह एक दिन में पृथ्वी के 11 चक्कर लगा सकता है इस कक्षा में जो अंतरिक्षयान भेजे जाते हैं वो अधिकतर मानव रहित यान ही होते हैं. मानवनिर्मित अंतरिक्ष यान ज्यादातर इसी कक्षा में भेजे जाते हैं. दुनिया भर में इंटरनेट के लिये भेजे सभी Satellite इसी कक्षा में भेजे गए हैं यानी हम जो भी Email, Video Calls, या कोई ऐसा कार्य करते है जिसमे Internet का इस्तेमाल होता है वो सब इन्ही Satellite के कारण संभव होता है  इस कक्षा में ही सभी तरह के जासूसी Satellite को भेजा जाता है 

3. एंटी सैटेलाइट(A-SAT) क्या है?

एंटी सैटेलाइट हथियार(A-SAT) अंतरिक्ष हथियार हैं, जो सामरिक सैन्य उद्देश्यों के लिए Satellites को विफल करने या नष्ट करने के लिए उपयोग मे लिया जाता है भारत से पहले यह तकनीकी केवल अमेरिका, रूस और चीन के पास ही थीपरन्तु किसी भी देश के द्वारा युद्ध में  A-SAT प्रणाली का इस्‍तेमाल नहीं किया है कई देशों ने   अपनी ASAT क्षमताओं को बल के रूप मे प्रदर्शित करने के लिए केवल अपने ख़राब या पुराने Satellites को इसके जरिए नष्‍ट किया है इस तरह 27 मार्च 2019 को भारत इस विशेष समूह  में शामिल होने वाला चौथा नया देश बना है

No comments:

Post a Comment

| Designed by ACS